SB Creations- Let Us Be Creative
पोकेटमार  भाई Welcom10

SB Creations में आपका हार्दिक स्वागत हैं. इस वेबसाइट पर मेरी कहानीया, कविताये, लेख, समाज से जुडी जानकारिया आदि हैं. इन्हें पढ़े एवं शेयर करे.

धन्यवाद...

सुमित मेनारिया

पोकेटमार भाई

Go down

पोकेटमार  भाई Empty पोकेटमार भाई

Post by smenaria on Sat Jul 28, 2012 12:26 am

पोकेटमार  भाई Pocket10

पोकेटमार भाई

बस से उतर कर पॉकेट में हाथ डाला तो मैं शॉक रह गया, मेरी पॉकेट कट चुकी थी...!

पॉकेट में था भी क्या..?? कुल 150 रुपये और एक खत..!!

जो मैने अपनी माँ को लिखा था-
मेरी नौकरी ख़तम हो गई है; अभी पैसे नहीं भेज पाउँगा...

3 दिन से... वो पोस्टकार्ड मेरी पॉकेट में पड़ा था...! पोस्ट करने को मन ही नहीं कर रहा था..!
वैसे तो 150 रुपये कोई बड़ा अमाउंट नहीं था लेकिन जिसकी नौकरी चली गई हो उसके लए 150 रुपये...1500 रुपये से कम नहीं होते...!

कुछ दिन गुज़रे..!

माँ का खत मिला..!
पढ़ने से पहले.. मैं सहम गया...! ज़रूर पैसे भेजने को लिखा होगा...!

लेकिन खत पढ़कर मैं शॉक हो गया..!

मा ने लिखा था: "बेटा, तेरा 500 रुपये का भेजा हुआ मनीओडर मिल गया है..!
तू कितना अछा है..! पैसे भेजने में कभी लापरवाही नहीं करता...!

मैं इसी सोच में पड़ गया की आख़िर मनीओडर किसने भेजा होगा...??

कुछ दिन बाद.. एक ओर लेटर मिला..!
बड़ी बेकार हॅंडराइटिंग थी..
बड़ी मुश्किल से पढ़ पाया..!
उस में लिखा था...!

भाई 150 रुपये तुम्हारे और 350 रुपये
अपनी और से मिलकर मैने तुम्हारी मा को..मनीओडर भेज दिया है...!
फिकर ना करना..! मा तो सबकी एक जैसी होती है ना..!!
वो क्यूँ भूखी रहे..??

तुम्हारा -
पोकेटमार भाई..!!!!

आदमी चाहे जितना भी बुरा काम क्यू ना करता हो मा के लिए फीलिंग्स सब की एक जेसी होती हैं....
smenaria
smenaria
Admin

Posts : 96
Points : 218
Reputation : 0
Join date : 02.05.2012
Age : 29
Location : The Hell

http://menaria.me.cc

Back to top Go down

Back to top


 
Permissions in this forum:
You cannot reply to topics in this forum